परमात्मा प्रेम के सागर है । और आप सागर से जितना चाहे

उतना प्यार रूपी जल ले सकते है वो कभी कम नही होगा ।

 

Download Image
Jain Muni

    Jain Muni