Parevar (Family)

Parevar (Family)

  “परिवार” “परिवार” से बड़ा कोई “धन” नहीं । “पिता” से बड़ा कोई ” सलाहकार ” नहीं । “माँ ” की छाव से बड़ी कोई “दुनिया” नहीं । “भाई ” से अच्छा कोई “भागीदार ”...
Amrit vani “अमृत वाणी” (Jain Muni)

Amrit vani “अमृत वाणी” (Jain Muni)

पेट तेरा भर सकती है आटे से बनी दो रोटिया फिर क्यों खाता है तू बन्दे बेजुबा की बोटिया शाकाहार सबसे बड़ा पुण्य है जैन धर्म में जीव हत्या को सबसे बड़ा पाप माना है l ऐसा कोई धर्म नहीं जिसमे किसी निर्दोष बेजुबा की हत्या करना या मांस का सेवन बताया गया हो . हिन्दू धर्म में तो...
Amrit vani “अमृत वाणी” (Jain Muni)

Amrit vani “अमृत वाणी” (Jain Muni)

यदि जीवन में लोकप्रिय होना हो तो सबसे ज्यादा ‘आप’ शब्द का, उसके बाद ‘हम’ शब्द का और सबसे कम ‘मैं’  शब्द का उपयोग करना चाहिए। ..   Download Image     Share on Facebook Share Share on TwitterTweet Share on Google Plus...
Amrit vani “अमृत वाणी” (Jain Muni)

Amrit vani “अमृत वाणी” (Jain Muni)

दुनिया में दो ‘पौधे’ ऐसे हैं जो कभी मुरझाते नहीं और अगर जो मुरझा गए तो उसका कोई इलाज नहीं। पहला – ‘नि:स्वार्थ प्रेम’ दूसरा – ‘अटूट विश्वास’   Download Image   Share on Facebook Share Share on TwitterTweet Share on Google Plus Share Share on Pinterest Share...
BK shivani

BK shivani

“Every New Day is another chance to change Your Life.” Download Image Share on Facebook Share Share on TwitterTweet Share on Google Plus Share Share on Pinterest Share Share on LinkedIn...
Amrit vani “अमृत वाणी” (Jain Muni)

Amrit vani “अमृत वाणी” (Jain Muni)

आँख के अंधे को दुनिया नहीं दिखती काम के अंधे को विवेक नहीं दिखते मद के अंधे को अपने से श्रेष्ठ नहीं दिखती और स्वार्थी को कहीं भी दोष नहीं दिखता Download Image Share on Facebook Share Share on TwitterTweet Share on Google Plus Share Share on Pinterest Share Share on...